कंप्यूटर वायरस क्या है समझाइए?

आज के ज़माने में कंप्यूटर बहुत आगे बढ़ चूका है सभी लोग आज कंप्यूटर का प्रयोग करते है वही हमारे कंप्यूटर की दुनिया में कुछ कंप्यूटर हैकर भी हो गए है जो हमारे डाटा को चुरा लेते है।

कंप्यूटर हैकर हमारे कंप्यूटर पर कुछ वायरस प्रोग्राम करके सेंड कर देते है जो सॉफ्टवेयर के फॉर्म में होता है या फाइल के फॉर्म में या ईमेल के माध्यम से हमारे कंप्यूटर में किसी तरह इनस्टॉल कर देते है उसका बाद कंप्यूटर वायरस अपने जैसा क्लोन बनाता है फिर कंप्यूटर के सिस्टम को स्लो कर देता है और इम्पोर्टेन्ट इनफार्मेशन को चुरा लेता है सब

इसलिए हमारे कंप्यूटर को सुरक्षित रखने के कंप्यूटर एंटीवायरस आता है जो वायरस को किल कर देता है जिससे हमारी कंप्यूटर प्रोटेक्ट रहती है कंप्यूटर वायरस से। बहुत से लोग नहीं जानते है की कंप्यूटर एंटीवायरस क्या है आज हमलोग इसके बारे में गहराई तक जानेंगे।

कंप्यूटर वायरस क्या है इससे बचने के उपाय लिखिए?

कंप्यूटर वायरस कंप्यूटर कोड का एक malicious piece होता है जो की एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक डाटा को चुराने या किसी कार्य को अंजाम देने के लिए डेवेलोप किया जाता है यह एक हाई स्किल्ड प्रोग्रामर यानि हैकर के द्वारा डेवेलोप किया जाता है देखिये कंप्यूटर हैकिंग में दो टाइप के हैकर होते है एक वाइट हैट हैकर और दूसरा ब्लैक हैट हैकर जितना भी illegal function को परफॉर्म किया जाता है वह सभी ब्लैक हैट हैकर द्वारा किया जाता है और वाइट हैट हैकर हमारा डाटा को सिक्योर करके रखता है हैकिंग होने से बचाता है।

कंप्यूटर वायरस code या program होता है जो प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के हेल्प से बनाये जाते है यह ईमेल , वेबसाइट , pendrive , आदि के जरिये यूजर के सिस्टम में प्रवेश करता है फिर यूजर के सिस्टम को स्लो कर देता है या तो फाइल को डिस्ट्रॉय कर देता है मेरा मतलब यह है की जिस इंटेंशन से वह वायरस बनाया गया है उसी से रिलेटेड होस्ट सिस्टम पर वर्क को परफॉर्म करता है।

कंप्यूटर वायरस की खोज किसने की ?

सबसे पहली कंप्यूटर वायरस की खोज मैथमेटिक्स जॉन वॉन न्यूमैन ने की थी। इन्होने सबसे पहले कंप्यूटर वायरस 1949 में Self Replicating Program वायरस बनाया था जो कि कंप्यूटर के अंदर अपने आप बढ़ता चला जाता है इसे वर्ल्ड का सबसे फर्स्ट वायरस माना जाता गया है।

कंप्यूटर वायरस से कैसे बचा जाए ? इसके बारे में बताने जा रहे है जो निचे पॉइंट में दिए गए है आप ध्यान से रीड करिये और अपने कंप्यूटर को प्रोटेक्ट रखिये।

  • सबसे पहले आप एक एक अच्छा सा एंटीवायरस परचेस कीजिये फिर अपने सिस्टम में इनस्टॉल करिये जिससे आपकी सिस्टम में कोई वायरस प्रवेश न करे यह एंटीवायरस आपके सिस्टम को हेअल्थी रखेगा।
  • आप स्पैम ईमेल या किसी भी अनवांटेड लिंक पर क्लिक ना करे अन्यथा आपके सिस्टम में वायरस प्रवेश कर सकते है।
  • Questionable websites को अवॉयड करे वैसे वेबसाइट को फॉलो न करे जो की भर भर के अनवांटेड लिंक हो उस वेबसाइट से दूर रहे।
  • किसी और पर्सन का pendrive अपने सिस्टम में यूज़ ना करे अन्यथा वायरस भी हो सकते है इस बात का आप ध्यान रखे।
  • Pirated सॉफ्टवेयर को अवॉयड करे।
Computer Virus क्या है? - Computer virus in Hindi

Computer Virus क्या है? - Computer virus in Hindi

कंप्यूटर वायरस एक ऐसा वायरस होता है जो बिना यूजर के के अनुमति के बिना यूजर के सिस्टम में घुस जाता है और यूजर के सिस्टम को इन्फेक्ट कर देता है जैसे यूजर के इम्पोर्टेन्ट डाटा को चुरा लेता है जिसका दुरुपयोग भी हो सकता है। , यूजर के सिस्टम को स्लो कर देता है यह एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम होता है जो यूजर के सिस्टम के function को मैनिपुलेट कर देता है |

अपने अनुसार जैसा प्रोग्रामिंग किया गया है उसके अनुसार अपना कार्य करने लगता है। यह अपने जैसा क्लोन बना लेता यही और यूजर के सिस्टम पर पूरी तरह से हाबी हो जाता है , वायरस बहुत डेंजरस होता है जो यूजर के सिस्टम को अपने अनुसार चला सकता है। इससे बचने के लिए एक एंटीवायरस आता है। जो यूजर के सिस्टम में इंसटाल करना होता है। जिससे यूजर की कंप्यूटर सुरक्षित रहता है। कोई भी खतरनाक वायरस से आज हमलोग कंप्यूटर में कितने प्रकार के वायरस होते है इससे कैसे बचा जाए सारी चीजे डिटेल्स में बताऊंगा आइये अब बिस्तर में इसके बारे में जानते है।

Important Links:-

कंप्यूटर वायरस कौन कौन से होते हैं?

कंप्यूटर वायरस एक प्रकार का मैलवेयर है जो प्रोग्राम और एप्लिकेशन को बदलकर खुद को multiply करने के लिए अपना वायरस कोड डालता है। malicious code की replication के माध्यम से कंप्यूटर infected हो जाता है। कंप्यूटर वायरस अलग-अलग तरीकों से सिस्टम को संक्रमित करने के लिए अलग-अलग रूपों में आते हैं। यहां कुछ प्रकार के कंप्यूटर वायरस है।

  • 1. Boot Sector Virus
  • 2. Direct Action Virus
  • 3. Resident Virus
  • 4. Multipartite Virus
  • 5. Polymorphic Virus
  • 6. Overwrite Virus
  • 7. Spacefiller Virus
Computer Virus कितने प्रकार के होते है?

1. Boot Sector Virus

Boot Sector Virus - इस प्रकार का वायरस master boot record को संक्रमित करता है और इस वायरस को हटाने के लिए यह चुनौतीपूर्ण और जटिल कार्य है और अक्सर सिस्टम को format करने की आवश्यकता होती है। ज्यादातर यह removable media के माध्यम से फैलता है।

2. Direct Action Virus

इसे non-resident virus भी कहा जाता है, यह कंप्यूटर की मेमोरी में इंस्टाल हो जाता है या छिपा रहता है। यह उन विशिष्ट प्रकार की फाइलों से जुड़ा रहता है जिन्हें यह संक्रमित करता है। यह user के experience and system’s performance को प्रभावित नहीं करता है।

3. Resident Virus

इस प्रकार का वायरस कई तरह से फैलता है। यह एक ही समय में boot sector and executable files दोनों को infects करता है।

4. Polymorphic Virus

इस प्रकार के वायरस को traditional anti-virus program के साथ पहचानना मुश्किल होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि Polymorphic वायरस जब भी दोहराता है तो अपने signature pattern को बदल देता है।

5. Overwrite Virus

इस प्रकार का वायरस उन सभी फाइलों को हटा देता है जिन्हें वह संक्रमित करता है। हटाने का एकमात्र possible mechanism infected फ़ाइलों को हटाना है और अंतिम users को इसमें सभी सामग्री को खोना पड़ता है। overwrite virus की पहचान करना मुश्किल है क्योंकि यह emails से फैलता है। Webmail Kya Hota Hai

6. Spacefiller वायरस

इसे "Cavity Viruses" भी कहा जाता है। इसे इसलिए कहा जाता है क्योंकि वे कोड के बीच के रिक्त स्थान को भर देते हैं और इसलिए फ़ाइल को कोई नुकसान नहीं पहुंचाते हैं।

7. File infectors:

कुछ File infectors वायरस प्रोग्राम फ़ाइलों के साथ attached होते हैं, जैसे .com या .exe फ़ाइलें। कुछ File infectors वायरस किसी भी प्रोग्राम को infects करते हैं जिसके लिए execution का request किया जाता है, जिसमें .sys, .ovl, .prg और .mnu फ़ाइलें शामिल हैं। Consequently , जब विशेष प्रोग्राम लोड किया जाता है, तो वायरस भी लोड हो जाता है। इनके अलावा, अन्य फाइल इंफेक्टर वायरस ईमेल अटैचमेंट में भेजे गए पूरी तरह से शामिल program या script के रूप में आते हैं।

8. Macro viruses

जैसा कि नाम से पता चलता है, Macro viruses विशेष रूप से माइक्रोसॉफ्ट वर्ड जैसे applications में macro language कमांड को target करते हैं। यही बात अन्य programs पर भी लागू होती है।

9. Overwrite Viruses

वायरस का डिज़ाइन purpose भिन्न होता है और वायरस को Overwrite करना मुख्य रूप से किसी फ़ाइल या एप्लिकेशन के डेटा को नष्ट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, वायरस कंप्यूटर पर हमला करने के बाद फाइलों को अपने कोड से ओवरराइट करना शुरू कर देता है। हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए, ये वायरस specific files or applications को target करने या infected device पर सभी फ़ाइलों को व्यवस्थित रूप से overwrite करने में अधिक सक्षम हैं।

10. System or Boot-record Infectors

Boot-record Infectors disk पर specific system areas में पाए जाने वाले executable योग्य code को infect करते हैं। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, वे USB thumb drives और diskettes पर DOS boot सेक्टर या हार्ड डिस्क पर मास्टर boot रिकॉर्ड से जुड़ते हैं। boot वायरस इन दिनों आम नहीं हैं क्योंकि Latest device physical storage media पर कम निर्भर हैं।

11. Rootkit Viruses

Rootkit Viruses एक malware प्रकार है जो एक infected system पर secret रूप से एक illegal rootkit स्थापित करता है। यह attacker के लिए दरवाजा खोलता है और उन्हें सिस्टम पर पूरा नियंत्रण देता है। attacker कार्यों और कार्यक्रमों को मौलिक रूप से संशोधित या अक्षम करने में सक्षम होगा। अन्य sophisticated viruses की तरह, Rootkit वायरस भी एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर को बायपास करने के लिए बनाया गया है। प्रमुख antivirus और antimalware programs के latest versions में rootkit scanning शामिल है।

Computer virus protection - कंप्यूटर वायरस सुरक्षा

Computer virus protection - कंप्यूटर वायरस सुरक्षा

अपने कंप्यूटर को healthy और वायरस से मुक्त रखने का प्रयास करते समय antivirus का उपयोग करना आवश्यक है। कंप्यूटर एक incredible technology है जिसका हम में से कई लोग अपने जीवन के हर दिन उपयोग करते हैं। हालांकि, वे वायरस और malware से ग्रस्त हैं जो हमारी फाइलों को नुकसान पहुंचा सकते हैं और हमारे व्यक्तिगत डेटा, जैसे बैंकिंग details and social security information चुरा सकते हैं। यदि आप कुछ अतिरिक्त सुरक्षा के लिए बाज़ार में हैं, तो आपके कंप्यूटर को वायरस से बचाने के 8 तरीके यहां दिए गए हैं।

1. Install an Antivirus - एक एंटीवायरस स्थापित करें

कई antivirus प्रोग्राम उपलब्ध हैं, जो सुरक्षा के स्तर के बढ़ने के साथ-साथ कीमत में भी होते हैं। सबसे अच्छा एंटीवायरस स्थापित करना कोई आसान काम नहीं है, और कभी-कभी हमारे लिए एक से अधिक डाउनलोड करना सुरक्षित हो सकता है यदि वे प्रत्येक अलग सुरक्षा पहलुओं को कवर करते हैं।

यह कहा जा सकता है कि जब तक हम अपने पीसी से इंटरनेट का उपयोग नहीं करते हैं, तब तक एंटीवायरस की कोई आवश्यकता नहीं है। हालांकि, यह जरूरी नहीं कि सच हो, क्योंकि हम USB sticks पर सिस्टम के बीच वायरस ले जा सकते हैं। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि सुरक्षित और सुरक्षित कंप्यूटर रखने के लिए आपको बहुत अधिक पैसा या कोई पैसा खर्च करने की आवश्यकता नहीं है।

2. Keep Your Software up to Date - अपने सॉफ़्टवेयर को अद्यतित रखें

सभी computer operating systems लगातार अपडेट प्राप्त करते हैं जो individual features को बढ़ाते हैं। इन अपडेट में सुरक्षा उपाय भी शामिल हैं जो हमारे कंप्यूटर को हैकर्स द्वारा तैयार किए गए वायरस और मैलवेयर के latest batch से सुरक्षित रखते हैं।

हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि अपडेट notified हैं या automatically रूप से डाउनलोड और इंस्टॉल करने के लिए सेट हैं। सावधान रहें, ये installation समय लेने वाली हो सकती हैं, खासकर यदि महत्वपूर्ण परिवर्तन और सुरक्षा उपाय हैं जो सिस्टम को विभिन्न डेटा को संभालने के तरीके को बदलते हैं।

3. Backup Your Computer - अपने कंप्यूटर का बैकअप लें

कभी-कभी हम अपने कंप्यूटर से किसी वायरस या malware को हटाने में असमर्थ होते हैं, और जब ऐसा होता है, तो हमें अपना कुछ डेटा निकालना होगा। कभी-कभी, harmful code से file corruption करने का मतलब यह हो सकता है कि हमें अपनी ard drives को reformat करना होगा।

बैकअप के बिना, किसी भी खोए हुए डेटा को पुनर्प्राप्त करने का कोई तरीका नहीं है। यह और भी महत्वपूर्ण है क्योंकि hard drives गलती से खुद को infect कर सकते हैं और हमारी फाइलों को खर्च कर सकते हैं। हालांकि, एक बैकअप जिसमें वायरस और malicious कोड होता है, वह केवल हमारे द्वारा अनुभव की गई समस्याओं को तब तक दोहराएगा जब तक कि हम malware का बैकअप नहीं लेते।

आपके बैकअप को स्टोर करने के लिए तीन बुनियादी विकल्प हैं: external hard drives, online storage, and cloud storage । Google Drive जैसी साइटें सीमित स्थान के लिए निःशुल्क cloud storage प्रदान करती हैं।

4. Use a Strong Password - एक मजबूत पासवर्ड का प्रयोग करें

पासवर्ड protects की first line है जो हमारे accounts को unauthorized access प्राप्त करने की कोशिश करने वाले किसी भी व्यक्ति से बचाता है। एक बार किसी के खाते में, वे डेटा चुरा सकते हैं या हानिकारक सामग्री को क्लाउड स्टोरेज में रख सकते हैं जो automatically रूप से कंप्यूटर पर अपडेट हो सकता है।

एक strong password होता है और अक्सर किसी भी तरह से खुद से related नहीं होता है। सबसे आम पासवर्ड जिनका आसानी से guesse किया जा सकता है वे हैं "पासवर्ड," abcd, और 87654321, हर वेबसाइट या app के लिए एक ही login details का उपयोग करने से हम attack की चपेट में आ जाते हैं, भले ही सिर्फ एक account तक illegally रूप से पहुँचा हो।

5. Avoid Suspicious Links - संदिग्ध लिंक से बचें

Links एक खतरनाक चीज हो सकते हैं, खासकर जब वे किसी unknown source से हों। एक सामान्य तरकीब जो आज भी उपयोग की जाती है, वह phishing emails भेज रही है जो harmful websites से जुड़ती है जो वायरस install कर सकती हैं या हमारा डेटा चुरा सकती हैं। हम जिस पर क्लिक करते हैं उसके बारे में सावधान रहना हमें कई संभावित खतरों से बचाएगा।

Conclusion

आशा करते है आपलोगो को सारी जानकारी समझ आ गई होगी कि कंप्यूटर वायरस क्या है ये वायरस हमारे लिए कितना खतरनाक होते है इनसे कैसे बचा जाए कौन कौन से उपाए है कंप्यूटर वायरस हमारे सिस्टम के सारे जरुरी फाइल के इनफार्मेशन को चुरा लेते है। ये काम कंप्यूटर हैकर करते है इसके लिए हमे अपने सिस्टम में एंटीवायरस इनस्टॉल करना होता है जिससे हमारे कंप्यूटर प्रोटेक्ट रहे इस तरह के वायरस से अगर आपलोग को मेरे जानकारी से सटिस्फीएड है तो शेयर करियेगा अपने फेसबुक पर ताकि जयदा से जयदा लोग पढ़ सके और की कंप्यूटर वायरस क्या। सुक्रिया !!

Tags

Trending Topics

News

Mobile

Internet

Software

Computer

Digital Marketing

Youtube Tourist Place Vlog