Software Kya hai kitne prakar ke hote hai जानिए

Software Kya hai - आज हमलोग सॉफ्टवेयर के बारे में विस्तार रूप से जानेंगे की सॉफ्टवेयर की क्या प्रयोग है ? सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है तथा एक कंप्यूटर को सॉफ्टवेयर की क्यों नीड होती है जैसा की हमलोग जानते है कि human की तुलना में कंप्यूटर ज्यादा फ़ास्ट वर्क करता है बहुत काम ही टाइम में बिना किसी गलती के काम जल्दी से करता है।

जो कार्य 10 आदमी एक दिन में काम करता है वो काम कंप्यूटर मिनटों में कर देता है इतना फ़ास्ट काम क्यों होता है सॉफ्टवेयर की वजह से एक कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर के बहुत इम्पोर्टेन्ट रोल होते है बिना सॉफ्टवेयर के कंप्यूटर बेकार है सॉफ्टवेयर ही कंप्यूटर को बेहतरीन बनाता है ताकि स्मार्ट वर्क कर सके |

सॉफ्टवेयर एक Non Living Things है जिसे हमलोग छू नहीं सकते है और ना ही देखा सकते है क्योकि इसका कोई फिजिकल Existence नहीं है सॉफ्टवेयर को ओनली फील कर सकते है सॉफ्टर का हिंदी अर्थ संचालन प्रणाली होता है।

सॉफ्टवेयर मैनली 2 प्रकार के होते है एक सिस्टम सॉफ्टवेयर और दूसरा अप्लीकेशन सॉफ्टवेयर जो की प्रिंटर्स मॉनीटर्स और स्टोरेज डिवाइस को कण्ट्रोल करता है।

अब आइये इसे संछिप्त में जानते है स्टेप by स्टेप :-

Software Kya Hai

कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर की क्या भूमिका है

Computer सॉफ्टवेयर Data या Programs का एक सेट होता है जिसका उपयोग कंप्यूटर को Operate करने और Specific Work को Perform करने के लिए किया जाता है। यह hardware के opposite है, जो कंप्यूटर के Physical Aspects का वर्णन करता है। Software एक सामान्य शब्द है जिसका उपयोग किसी Device पर चलने वाले Applications, Scripts and Programs को Refer करने के लिए किया जाता है। इसे कंप्यूटर के Variable Part के रूप में माना जा सकता है, जबकि हार्डवेयर Invariable Part है।

सॉफ्टवेयर की दो Main Category एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर और सिस्टम सॉफ्टवेयर हैं। एक एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर है जो एक Specific Work को Perform करता है सिस्टम सॉफ़्टवेयर को कंप्यूटर के हार्डवेयर को चलाने के लिए डिज़ाइन किया गया है और Application को चलाने के लिए एक Platform प्रदान करता है।

अन्य प्रकार के सॉफ़्टवेयर में प्रोग्रामिंग सॉफ़्टवेयर शामिल हैं, जो Programming Tools Software Developers को प्रदान करता है; Developer, जो सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लिकेशन को Operates करता है। और ड्राइवर सॉफ्टवेयर, जो Computer Devices And Peripherals को Operates करता है।

सॉफ्टवेयर किसे कहते हैं

सॉफ्टवेयर इंस्ट्रक्शन , डाटा या प्रोग्राम का एक सेट होता है जिसका use कंप्यूटर को operate करने के लिए और स्पेसिफिक टास्क को कम्पलीट करने के लिए किया जाता है। सॉफ्टवेयर को हम ओनली फील कर सकते है ऐसे छू नहीं सकते है। जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम , एप्लीकेशन इतियादी जो प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के हेल्प से डेवेलोप किया जाता है जिसे हम सॉफ्टवेयर कहते है।

5 सॉफ्टवेयर के नाम

वैसे तो कंप्यूटर में बहुत सारे सॉफ्टवेयर होते है जिस पर्सन को जिस तरह का वर्क करना होता है वो उस तरह के सॉफ्टवेयर को उपयोग में लेता है जैसे -

  • 1. डिज़ाइनर - एक डिज़ाइनर जिसको हमेशा डिज़ाइन की जरुरत होती है तो उसके लिए - एडोबी फोटोशॉप , एडोबी indesign , Corel Draw , Adobe illustrator जैसे सॉफ्टवेयर का यूज़ करता है।
  • 2. फिल्म मेकर - फिल्म बनाने वाली कंपनी फिल्म से रिलेटेड सॉफ्टवेयर का प्रयोग करती है जैसे - Adobe Premiere , After Effect , Maya इतियादी सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है।
  • 3. वेब एप्लीकेशन - वेबसाइट या एप्लीकेशन बनाने के लिए asp.net , wordpress , adobe dreamweaver जैसे सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है।
  • 4. डाटा स्टोर - डाटा स्टोर रिलेटेड वर्क करना है तो इसके लिए एक्सेल बहुत अच्छी सॉफ्टवेयर जिसका प्रयोग किया जाता है।
  • 5. मोबाइल एप्लीकेशन - मोबाइल में अप्प डेवेलोप करना है तो android studio जैसे सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है।

बहुत तरह के सॉफ्टवेयर होते है आपको जिस फील्ड रिलेटेड वर्क करना होता है उस रिलेटेड सॉफ्टवेयर का यूज़ करते है।

कंप्यूटर में काम करने के लिए किस सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है?

कंप्यूटर में काम करने के लिए बहुत सारे सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है जैसे -

  • 1. वर्ड फाइल - कोई फाइल बनाने के लिए इसका यूज़ किया जाता है।
  • 2. एक्सेल - डाटा को स्टोर करने के लिए इसका यूज़ किया जाता है।
  • 3. पावर पॉइंट - प्रेजेंटेशन बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है।
  • 4. पेंट - डिज़ाइन रिलेटेड वर्क करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।
  • 5. एडोबी फोटोशॉटॉप - एडवांस लेवल पर डिज़ाइन करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।

कंप्यूटर की आत्मा किसे कहते हैं?

किसी भी कंप्यूटर का आत्मा यानि दिल CPU होता है।

सीपीयू (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) कंप्यूटर सिस्टम का ब्रेन होता है CPU में एक चिप होता है जिसमे millions of tiny transistors रहते है। यह कंप्यूटर में होने वाली हर reaction को कण्ट्रोल करता है। और जितने भी computational tasks, calculations और data processing को परफॉर्म करता है।

Software kitane prakar ke hote Hai

Software kitne prakar ke hote hain ?

सॉफ्टवेयर दो प्रकार के होता है |

  • 1. System Software
  • 2. Application Software

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या है और कितने प्रकार के होते है

सिस्टम सॉफ्टवेयर प्रोग्राम का एक सेट है जो कंप्यूटर हार्डवेयर के Operations को Control और Manage करता है। यह एप्लिकेशन प्रोग्राम को सही ढंग से Execute करने में भी मदद करता है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर सिस्टम के Operation को Control करने और processing functionalities का extend करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के Operation को अधिक Fast, Effective और Secure बनाता है। उदाहरण: ऑपरेटिंग सिस्टम, प्रोग्रामिंग लैंग्वेज, कम्युनिकेशन सॉफ्टवेयर आदि।

सिस्टम कितने प्रकार के होते है - सिस्टम सॉफ्टवेयर के उदाहरण

कुछ महत्वपूर्ण सिस्टम सॉफ्टवेयर के टाइप दिए गए हैं जो नीचे निमंलिखित है |

  • ऑपरेटिंग सिस्टम
  • प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ट्रांसलेटर
  • कम्युनिकेशन सॉफ्टवेयर
  • यूटिलिटी प्रोग्राम

2. Application Software क्या है और कितने प्रकार के होते है ?

Application software एक ऐसा term है जिसका उपयोग किसी specific purpose के लिए बनाए गए सॉफ़्टवेयर के लिए किया जाता है। यह आम तौर पर end users द्वारा उपयोग किए जाने वाले program या program का collection होता है। इसे एक application या बस एक ऐप कहा जा सकता है।

वास्तव में system software और programming software के अलावा सभी software application software हैं। एक software जो user को specific tasks को करने में मदद करने के लिए developed किया जाता है, application software कहलाता है।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के बहुत सारे examples हैं

  • वर्ड प्रोसेसिंग सॉफ़्टवेयर
  • डेटाबेस प्रोग्राम
  • एंटरटेनमेंट सॉफ्टवेयर
  • बिज़नेस सॉफ्टवेयर
  • एजुकेशन सॉफ्टवेयर
  • कंप्यूटर एडेड डिजाइन (CAD) सॉफ्टवेयर
  • स्प्रेडशीट सॉफ्टवेयर आदि।

सॉफ्टवेयर की उपयोगिता

हमारे देश में या आप कही भी चले जाइएगा सब जगह आज कंप्यूटर में जितना सॉफ्टवेयर होता है सभी जगह उसका उपयोग किया जाता है जिससे हमारा काम जल्दी से और बिना किसी गलती के हो जाता है आज के ज़माने में घर से लेकर ऑफिस तक सभी जगह इसका उपयोग होता है।

  • एजुकेशन से रिलेटेड सभी जगह यानि स्कूल , कॉलेज , कोचिंग और बच्चो के पढाई के लिए इसका उपयोग किया जाता है।
  • रेलवे में ऑनलाइन सॉफ्टवेयर यानि वेबसाइट के जरिये काम होता है जिससे हमलोग इ-टिकट लेते है।
  • हॉस्पिटल यानि मेडिकल ट्रीटमेंट में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है।
  • शॉपिंग मॉल , दुकानदार , ऑनलाइन मार्केटिंग के लिए ऑनलाइन सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है जैसे आमज़ॉन , फ्लिपकार्ट , स्नैपडील इतियादी।
  • मौसम बिभाग में इसका उपयोग बड़े पैमाने पर होता है जैसे टेम्परेचर , स्टॉर्म , इतियादी जांच करके लिए प्रयोग किया जाता है।
  • सॉफ्टवेयर के हेल्प्स से हम किसी काम को तुरंत पूरा कर सकते है चाहे जिस फील्ड का काम हो जैसे सैलरी पेमेंट करना , अपने दुकान का कितना सामान गया है कितना नहीं गया है इसके जांच कर सकते है ऑनलाइन रिलेटेड कुछ भी में इसका उपयोग किया जाता है

सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के बीच अंतर

System Software

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर system resources को manage करने के लिए होता है। यह एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर को चलाने के लिए प्लेटफॉर्म के रूप में कार्य करता है।

2. सिस्टम सॉफ़्टवेयर low-level language में विकसित किया गया है (उदाहरण के लिए असेंबली भाषा)

3. सिस्टम के starts होते ही System software अपने आप चलने लगता है और सिस्टम के stop होने पर stop हो जाता है।

Application Software

एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर function के एक specific set को Perform करने में help करता है जिसके लिए उन्हें डिज़ाइन किया गया है।

एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर Java, C++, .net and VB. जैसी हाई लेवल लैंग्वेज में विकसित किया गया है।

एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर तब चलता है जब user request करता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग सैलरी

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग सैलरी काफी हाई होती है सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का डिमांड भी काफी होती है आईटी कंपनी में जिसमे आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का बहुत अधिक जानकारी होनी चाहिए। सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का सैलरी प्रति वर्ष 75 लाख से लेकर 90 लाख तक होती है और अगर बड़े कंपनी जैसे गूगल, माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में जॉब करते है तो सैलरी इससे भी अधिक मिलती है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग बनने का आप सोच रहे है तो आपको कंप्यूटर में इंट्रेस्ट होनी चाहिए और प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में भी बहुत ज्यादा इंट्रेस्ट होनी चाहिए क्युकी इसमें ओनली आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के बारे में पढ़ाया जाता है और सॉफ्टवेयर बनाने को सिखाया जाया जाता है। एक सफल सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग वेबसाइट को हैकिंग होने से रोकता है, यह भी आपको सिखाया जाया जाता है, अगर आप सीखना चाहते है, तो सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग कोर्स फीस आपको बता देते है, इस कोर्स का फी लगभग 60 हजार से 10000 तक होती है जिससे आप सॉफ्टवेयर से रिलेटेड सारे प्रोग्रामिंग को सिखाया जाता है, ताकि आप किसी भी कंपनी में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पोस्ट पर वर्क कर सके।

हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का परिचय

computer term compute से लिया गया है जिसका अर्थ होता है कैलकुलेशन। कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस होता है जो इनपुट डाटा को लेता है और arithmetic and logical operation करने के बाद यूजर के सामने रिजल्ट display करता है। यह high speed with great accuracy के साथ वर्क करता है।

कंप्यूटर में मैनली दो major components होते है एक hardware और दूसरा software होता है।

जितना भी physical components होते है, जिन्हे हम टच कर सकते है, उन्हें हार्डवेयर कहते है। और सॉफ्टवेयर जिन्हे हम टच नहीं कर सकते है यह different programs का एक collection होता है जो की हार्डवेयर को कोई भी वर्क को perform करने के लिए instruction देता है।

हार्डवेयर में बहुत सारे कम्पोनेनेट आ सकते है जैसे - कीबोर्ड , माउस , output devices जैसे- visual display unit (VDU), प्रिंटर , स्पीकर और storage devices इतियादी।

प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर क्या है?

प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर computer technology field का एक प्रोफेशन होता है जिसमे एक प्रोग्रामर बैकेंड में coding करके सॉफ्टवेयर को डेवेलोप करता है जिसे हमलोग अपने डेली लाइफ में प्रयोग करते है। जिसको यूजर को जिस तरह का काम करना होता है उस तरह का सॉफ्टवेयर का प्रयोग करता है। जैसे - डिज़ाइन रिलेटेड वर्क में एडोबी फोटोशॉप का प्रयोग किया जाता है।

डाटा रिलेटेड वर्क करना होता है तो कंप्यूटर में एक्सेल सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है।

रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर को प्रोग्रामिंग tool या software development tool भी कहा जाता है। इसमें एक सेट ऑफ़ प्रोग्राम होता है जो की सॉफ्टवेयर को वर्क करने में हेल्प करता है। सॉफ्टवेयर समझ लीजिये एक ग्रुप ऑफ़ कोड्स होता है जहाँ अलग अलग कार्य के लिए अलग अलग function कोडिंग में लिखा गया होता है जो बैकेंड में लिखा रहता है।

सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है

सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है इसको जानने से पहले सॉफ्टवेयर कैसे बनाये जाते है ? ये पहले जानिए , सॉफ्टवेयर कोई भी वर्क को अंजाम देने के लिए बनाये जाते है हम जिस रिलेटेड बिज़नेस कोई करते है, अगर हमारा बिज़नेस काफी बड़ा है, और उसको हैंडल करने में बहुत डिफिकल्ट होती है तब हमलोग वहाँ पर सॉफ्टवेयर डेवलपर द्वारा एक सॉफ्टवेयर बनवाते है।

सॉफ्टवेयर डेवलपर सारे बातो को समझने के बाद वह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के हेल्प से सॉफ्टवेयर बनाता है जिसमे वह अपना coding लिखता है तब जाकें सॉफ्टवेयर का डेवलपमेंट होता है फिर उस सॉफ्टवेयर पर वर्क करने लिए लिए यूजर यानि क्लाइंट को दे दिया जाता है जिसपर वह अपना काम आसानी से कर सके। इस तरह सॉफ्टवेयर वर्क करता है।

रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर को प्रोग्रामिंग tool या software development tool भी कहा जाता है। इसमें एक सेट ऑफ़ प्रोग्राम होता है जो की सॉफ्टवेयर को वर्क करने में हेल्प करता है। सॉफ्टवेयर समझ लीजिये एक ग्रुप ऑफ़ कोड्स होता है जहाँ अलग अलग कार्य के लिए अलग अलग function कोडिंग में लिखा गया होता है जो बैकेंड में लिखा रहता है।

मोबाइल सॉफ्टवेयर क्या है?

मोबाइल सॉफ्टवेयर को मोबाइल एप्लीकेशन या app के नाम से भी जानते है यह सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन का एक प्रकार होता है जो की मोबाइल , टेबलेट और Smartphones के लिए डिज़ाइन किया जाता है।

मोबाइल एप्लीकेशन web app, online app, iPhone app और smartphone app भी कहा जाता है। मोबाइल सॉफ्टवेयर बहुत सारे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में बनाये जाते है जैसे- java language , python language और android studio होता है। इन सभी के हेल्प से android सॉफ्टवेयर बनाये जाते है।

Trending Topics

News

Mobile

Internet

Software

Computer

Digital Marketing

Youtube Tourist Place Vlog